इन्दौर । खजराना गणेश मंदिर पर तीन दिवसीय तिल चतुर्थी मेले का शुभारंभ मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष एवं कलेक्टर लोकेश जाटव एवं मंदिर प्रशासक तथा निगमायुक्त आशीष सिंह के साथ डीआईजी रूचिवर्द्धन मिश्रा ने ध्वजा पूजन के साथ किया। खजराना गणेश को स्वर्ण मुकुट एवं मोतियों का चोला भी चढ़ाया गया। भक्त मंडल की ओर से तिल-गुड़ के सवा लाख लड्डुओं का भोग लगाकर प्रसाद वितरण का शुभारंभ भी कलेक्टर जाटव, डीआईजी रूचिवर्द्धन मिश्रा एवं अन्य अतिथियों ने किया। राज्य के खेल मंत्री जीतू पटवारी एवं लोक निर्माण मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने भी मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना की।
भक्त मंडल के अरविंद बागड़ी, कैलाश पंच एवं अमृतलाल तेजापुरिया ने बताया कि कलेक्टर एवं अन्य अतिथियों ने मंदिर के पुजारी पं. मोहन भट्ट के निर्देशन में परिसर स्थित सभी 37 मंदिरों में ध्वजा परिवर्तन किया और पूजा अर्चना की। मुख्य मंदिर तक ध्वजा यात्रा भी निकाली गई। मंदिर पर सुबह से ही भक्तों की लंबी कतारंे लगना प्रारंभ हो गई थी लेकिन महाकाल की तर्ज पर दर्शन व्यवस्था होने से किसी को भी आधे घंटे से ज्यादा का समय नहीं लगा। खजराना गणेश को पुष्प बंगले में विराजित किया गया था। भक्त मंडल के कार्यकर्ताओं के सहयोग से पूरे दिन तिल-गुड़ के लड्डुओं के प्रसाद वितरण का क्रम जारी रहा। मंदिर पर मंदिर प्रबंधन समिति द्वारा आकर्षक विद्युत एवं पुष्प सज्जा के साथ ही पुष्पबंगला भी सजाया गया है। मेले में झूले, चकरी एवं अन्य मनोरंजन के साधनों की दुकानें भी पूरी तरह से सज गई है। मेले में तीनों दिन रात्रि को भजन संध्या के आयोजन भी होंगे। आज पहले दिन गन्नू महाराज की भजन संध्या हुई। देर रात तक हजारों भक्तों ने गणपत्ति बप्पा की आराधना स्वरूप भजन संध्या में भागीदारी दर्ज कराई। गणेशजी को प्रतिदिन संध्या को अनाज के विभिन्न किस्मों के लड्डुओं का भोग भी लगाया जाएगा।