अमित शाह ने यह भी माना कि प्रचार के दौरान आक्रामक बयानों से उन्हें नुकसान हुआ। उन्होंने कहा, 'देश के गद्दारों को... जैसे बयान नहीं दिए जाने चाहिए थे। इस तरह के बयानों से पार्टी को नुकसान हुआ है।'
नागरिकता संशोधन कानून पर मचे बवाल पर केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा, 'जो भी कोई सीएए पर चर्चा करना चाहता है, मैं उन्हें मुझसे चर्चा करने के लिए तीन दिन का समय देता हूं।'
अनुराग ठाकुर मंच से नारा लगा रहे थे- 'देश के गद्दारों को... जिसके बाद मंच के नीचे मौजूद लोग जवाब में कहते हैं- 'गोली मारो...को'। 
अनुराग ठाकुर की रैली काबाद कांग्रेस उनपर हमलावर हो गई। ऑल इंडिया महिला कांग्रेस ने कहा था कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा ध्रुवीकरण करने के लिए बेकरार है। 
ठाकुर से पहले भाजपा उम्मीदवार कपिल मिश्रा ने भी इसी तरह का नारा लगवाया था। इसके बाद आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने भाजपा पर धुव्रीकरण का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि इस तरह का बयान बेहद ही निंदनीय है और भाजपा को इस पर कार्रवाई करनी चाहिए। 
अनुराग ठाकुर के इस बयान के बाद निर्वाचन आयोग ने उन पर कार्रवाई करते हुए उन्हें नोटिस जारी किया था। आयोग ने अनुराग ठाकुर पर 72 घंटे का बैन लगाया। इसके बाद भाजपा ने ठाकुर पर कार्रवाई करते हुए उन्हें दिल्ली विधानसभा चुनाव के स्टार प्रचारकों की सूची से बाहर कर दिया।